मेरा वों सामान
hindi poetry / Poetry

मेरा वों सामान

तो ठीक है तुम चले जाओ, लेकिन मेरा हिसाब पूरा कर जाओ,  मेरा वो सामान लौटा जाओ, वो ख़त मेरे, जो तुमने कभी लिखे नहीं, और मैंने बारहा पढ़े, वो लफज़ जो तुमने कहे नहीं लेकिन मैंने हर रोज़ सुने, वो दिन जब निकली थी तुमसे मिलने, नीला दुपट्टा पहेने, तुम आओगे ये सोचकर खड़ी … Continue reading

hindi poetry / Poetry

कुछ अल्फाज़,बिना जज़्बात

वो शाम,वो रात, वो तेरी कही हर एक बात, समझते थे जिसे हम ज़िंदगी भर का साथ, रखे थे संदुक मे सजाकर खास तेरे वो अल्फाज़ | ये जाना, ये समझा, आज यहॉ, कल वहॉ, इस ज़माने मे घुमते भी है जज़्बात, कल जो थे मेरे, आज कहीं और… किसि और के लिए हैं बसते, ये जज़्बात ओह … Continue reading

जिंदगी कुछ इस तरह से…
hindi poetry / Poetry / Relationship & Stories

जिंदगी कुछ इस तरह से…

जिंदगी कुछ इस तरह से गुलज़ार होती, अगर उस शाम वो हमारे साथ होते , न थिरक्ते यू  हाथ किसी और के हाथ में, न  गुज़रती जिंदगी  किसी और की छाव में , उस शाम दिखाते अगर वो ये जज़्बा यू , लगते न फेरे हमारे किसी और के साथ में, जिंदगी कुछ इस तरह … Continue reading