फिर एक बार
hindi poetry / Relationship & Stories

फिर एक बार

               फिर एक बार यू ही बेवजह,                  मिलना उस तरह,             मुसकुरा दूंगी में ज़रा यू ही बेवजह.           किताब को यू सरका कर देख लेना नाम मेरा,            और फिर इतेफाक़ सा दिखाकर,              मिलना रोज़ ठीक उसी जगह.         देखना मुझे ऐसे … Continue reading